गीतिका/ग़ज़ल

“गज़ल”

जिंदगी ख्वाब अपनी सजाती रही
वो इधर से उधर गुनगुनाती रही
पास आती गई मयकसी रात में
नींद जगती रही वो जागती रही॥
पास आने की जुर्रत न जेहन हुई
दूर दर घर दीपावली जलाती रही॥
शीलशिला साथ रह सुर्खुरु हो गई
सुर्ख लाली लबों पर लजाती रही॥
ना चाहत चली ना तमन्ना तरी
शहनाई अलग धुन बजाती रही॥
बैठ डोली मुहब्बत बिदा हो गई
आह भर-भरके आँसू बहाती रही॥
चुप छुप के दीवाना किनारे लगा
मौसम की अदा याद आती रही॥
अपाहिज नहीं प्यार बहरा नहीं
वो गैरा अमानत है जाती रही॥
ये तजुर्बा मुहब्बत को पैगाम है
प्यार शिकवा नहीं सखीसाथी रही॥
 
महातम मिश्रा, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ

Leave a Reply