कविता

“पद”

 

बनवारी यह तोरी माया
साथी सखा तबहिं मन भाए, जब हो तुमरी दाया।
लपट कपट काके मन नाहीं, दिय हरि कमली काया।।
करम धरम की बेड़ी लागी, तापर प्रेमी छाया
लोभ क्रोध चिंता का ताला, चाभी मोहक माया।।
कस खोलूं आपन दरवाजा, बिनु आहट के भाया
कुण्डी मोर बजाओ मोहन, दरशन दो हरि राया।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ

4 thoughts on ““पद”

  1. कुण्डी मोर बजाओ मोहन, दरशन दो हरि राया, अति सुंदर.

Leave a Reply