गीत/नवगीत

गौरी

गौरी तेरी पांव की पायल,
जब भी छम-छम बजती है,
तेरी चाल मधुर कानों में,
गजरा बनकर सजती है..!

गौरी तेरे कान का झुमका,
लटक बहुत इतराता है,
देख इसे खुद कामदेव भी,
अपना शीश झुकाता है…!

जब गौरी तू पहन के लहंगा,
चुनरी को सरकाती है,
लाखों हृदयों में चंचल सी,
लहर दौड़ ही जाती है…!

गौरी तेरे भाल पे बिंदी,
देख के सावन आता है,
इसके आगे चांद भी गौरी,
पानी भरके जाता है..!

गौरी तेरी कमर का सटका,
चटख रंग चमकीला है,
दिन में इसकी चमक देख के,
सूरज गीला गीला है..!

गौरी का शृंगार बड़ा ही,
अनुपम और विशाल है,
इसे देखकर खुद गौरी भी,
समझो मालामाल है…!

एस.एन.प्रजापति

परिचय - सूर्यनारायण प्रजापति

जन्म- २ अगस्त, १९९३ पता- तिलक नगर, नावां शहर, जिला- नागौर(राजस्थान) शिक्षा- बी.ए., बीएसटीसी., बी.एड. स्वर्गीय पिता की लेखन कला से प्रेरित होकर स्वयं की भी लेखन में रुचि जागृत हुई. कविताएं, लघुकथाएं व संकलन में रुचि बाल्यकाल से ही है. पुस्तक भी विचारणीय है,परंतु उचित मार्गदर्शन का अभाव है..! रामधारी सिंह 'दिनकर' की 'रश्मिरथी' नामक अमूल्य कृति से अति प्रभावित है..!

Leave a Reply