“चौपाई”

14516533_1830560993893668_2840363522353864257_n

चौपाई छंद पर प्रथम प्रयास……

बाबा शिव शंभू सैलानी, कीरति महिमा अवघड़ दानी
बाजत डमरू डम कैलाशा, राग-विराग अटल बर्फानी॥-1

स्वर चौदह चौरासी योनी, लिखा ललाट मिटे कत होनी
सत्य सती धरि रूप बहूता, को सके रोक यज्ञ अनहोनी॥-2

चौदह वर्ष बिपिन वनवासा, लक्ष्मण राम सिया विश्वासा
रावण कुंभकरण दुर्वाषा, अहम कोप निद्रा रुध साँसा॥-3

खड़ा हिमालय साधू संगा, कलरव साधक योग विहंगा
मान सरोवर निश्छल गंगा, नन्दन नंदी बमबम भंगा॥-4

माँ जगदंबे सिंह सवारी, रूप कालिका दैत्य संघारी
विनती गौतम कर-कर जोरी, पूत कपूत क्षमहू माँ मोरी॥-5

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ