हाइकू

हाइकू

1
पैसा बोलता
सर चढ़कर है
घमण्डी होता ।

2
पैसा जरुरी
इन्कार तो नहीं है
पर कितना

3
खुशियाँ वहीँ
पहाड़ों पे मिलती
पैसे वालो को

4
सुकून ख़ोजे
क़ैद होकर जब
हंसता पैसा

5
बोले है पैसा
न चाहते हुए भी
अमीर वाणी

6
तौला प्यार को
पैसों की जुबान से
न चला पता ।

7
तलवार सी
धार पैसो की होती
वार करती ।

8
बदले हुए
आते है नज़र वो
पैसा ज़ुबान ।

9
पेट न भरे
पैसों के बिन कभी
है ये जरूरी ।

10
काला साया
बढ़ता ही जा रहा
पेड़ पैसो का ।

परिचय - कल्पना भट्ट

कल्पना भट्ट श्री द्वारकाधीश मन्दिर चौक बाज़ार भोपाल 462001 मो न. 9424473377