मुक्तक : फसल

जब मन में उगती फसल, तब लहराते खेत
खाद खपत बीया निरत, भर जाते चित नेत
हर ऋतु में पकती फसल, मीठे मीठे स्वाद
अपने अपने फल लिए, अपने अपने हेत॥1॥

कभी क्रुद्ध होती हवा, कभी फसल बीमार
गुर्राता है नभ कभी, कृषक कर्म आधार
आस लगाकर खेड़ता, जुतकर अपने मेड़
नमन शमन बदरी तपे, माँ धरती रखवार॥2॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ