ज़ख़्म

ज़ख़्म अपने कुछ इस तरह तराशते हैं
मकान बंद है हम फिर भी उसमे झांकते हैं

चाँद है दूर बोहोत दूर हमारी ज़द से
अजब जुनू है बा उम्मीद हो के ताकते हैं

बात जिससे भी की हरवक़त अनसुनी ही रही
सभी मसरूफ है बस अपनी अपनी हांकते हैं

तेरे शहर का भी मयार गिर गया है बहुत
यहाँ पे लोग दौलत से दिल को आंकते हैं

बे दिली की इक मुस्कान ओढ़े रहते हैं
गरीब लोग हैं महरूमियों को ढांकते हैं

अंकित शर्मा

ankitansh.sharma84@gmail.com'

परिचय - अंकित शर्मा

ankitansh.sharma84@gmail.com