प.. से प्रेम

प्रेम…
उम्र से बढ़कर
समय से परे
भाषा में कैद नहीं
न ही परिभाषा में समाये
इतना संवेदनशील
कि छुअन से थर्रा जाये
इतना मजबूत
कि पत्थर से टकरा जाए
पारदर्शी ऐसा
जैसे कि काँच
पर अदृश्य ऐसा
ढूंढने पर नज़र न आए
सरल इतना
हर सवाल सुलझ जाये
और जटिल इतना
कि जीवन सारा उलझ जाये
शीतल इतना
कि छाँव बन जाये
और इतना उष्ण
कि मन झुलसा जाये
इतना विशाल
और उन्मुक्त
कि आकाश नज़र आये
उपजाऊ और
सहनशील इतना
कि धरती बन बिछ जाये
*
कि बड़ी मुश्किल है इसकी थाह पाना ….. !!
– – शिप्रा खरे

परिचय - शिप्रा खरे

नाम:- कु.शिप्रा खरे पिता :- स्वर्गीय कपिल देव खरे माता :- श्रीमती लक्ष्मी खरे शिक्षा :- बी.एस.सी, एम.ए, बी.एड, एम.बी.ए लेखन विधाएं:- कहानी /कविता/ गजल/ आलेख/ बाल साहित्य साहित्यिक उपलब्धियाँ :- साहित्यिक समीर दस्तक सहित अन्य पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित, कस्तूरी कंचन काव्य संग्रह में कवितायें प्रकाशित पता:- पश्चिमी दीक्षिताना गोला गोकरन नाथ जिला-खीरी (उ०प्र) ई-मेल - shipradkhare@gmail.com