कविता

जब मै कोयल सी कूक रही थी पेङों पर,,
तब मनमुग्ध से तुम भावविभोर हो उठे,,
बसाया अपने मन में फूल की तरह…
जब गौरैया सी चिहचिहा रही थी तुम्हारे स्मृति पटल पर,
तब तुम धबराए,,
कही भाग्य न बन जाऊॅ
तुम्हारे आँगन का…
जब मोर पंख सा स्पर्श किया
मेरी रूह ने तुम्हारी रूह को
तब बंध गये थे तुम,
व्यवस्ताओं के हजार बन्धनों में…
तब बना लिया खुद को तुमने पपीहा,
ओस की बूॅदों के लिए भटकते रहे ताउम्र,
क्योकि तब सूखे आसमान में
कल्पनाओं का प्रफुल्लित होना ढल चुका था,,,,
किसी ढलती शाम की तरह…

–“नीरू”निराली

परिचय - नीरू श्रीवास्तव

शिक्षा-एम.ए.हिन्दी साहित्य,माॅस कम्यूनिकेशन डिप्लोमा साहित्यिक परिचय-स्वतन्त्र टिप्पणीकार,राज एक्सप्रेस समाचार पत्र भोपाल में प्रकाशित सम्पादकीय पृष्ट में प्रकाशित लेख,अग्रज्ञान समाचार पत्र,ज्ञान सबेरा समाचार पत्र शाॅहजहाॅपुर,इडियाॅ फास्ट न्यूज,हिनदुस्तान दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित कविताये एवं लेख। 9ए/8 विजय नगर कानपुर - 208005