गीत/नवगीत

“राधेश्यामी गीत”

“राधेश्यामी गीत”

अब मान और सम्मान बेच, मानव बन रहा निराला है।
हर मुख पर खिलती गाली है, मन मोर हुआ मतवाला है।।

किससे कहना किसको कहना, मानो यह गंदा नाला है।
सुनने वाली भल जनता है, कहने वाला दिलवाला है।।

नव आया कोई चोर नहीं, घर-घर पर लटका ताला है।
इक मत की खातिर सतरंजी, कुर्सी खा रही निवाला है।।

ईमान धरम किसने देखा, रधु कौशल दीनदयाला है।
अपनी-अपनी ढफली बजती, मथुरा में मुरलीवाला है।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ

Leave a Reply