नेताओं से आजादी बाकी है मेरे भाई

नेताओं से आजादी बाकी है मेरे भाई
नेताजी कह रहे हैं-
तू हिन्दू, तू मुस्लिम, तू सिख, तू ईसाई
तो बताओ, तुम कैसे हुए भाई-भाई।
भाईचारे के नाम पर
भाई-भाई को आपस में लड़वाई
अपनों को ही अपने से बैर करवाई
अमन के नाम पर विष फैलाई।
नेताओं का नहीं है
कोई धर्म ईमान मेरे भाई।
अब तो साधुबाबा ने भी
बजरंगी को दलित बतलाई।
कभी भाषा, तो कभी जाति के नाम पर
लोगों को खूब उकसाई
एक-दूसरे को आपस में भिड़वाई।
आज नेता अपने व्यंग्यबाण से
नित-नई विष फैला रहा है
नित्य-नई अड़ंगे डलवा
अपना काम निकाल रहा है
जनता को लाॅलीपाॅप झांसे में
नित नई भ्रम फैला रहा है
आज नेता बातें विकास की करता
और काम विनाश की कर रहा है
अपना उल्लू साध रहा है
जनता को आपस में लड़वा रहा है
भाई जवानों के बलिदानों से
सीमा और देश सुरक्षित है।
नेता नामक दीमक देश को लूट रहा है
आज नेता सुविधा के नाम पर
अपने ही देश को लूट रहा है
यह बड़ी कड़वी सच्चाई है
देश फण्ड से बड़ा पार्टी का फण्ड हो गया है
आज देश, नेताओं से आजादी की मांग रहा है भाई
नेताओं से छुटकारा पाना है तो
बिगुल बजाओ सब मिल भाई-भाई
नेताओं की वैसी-तैसी करो मेरे भाई
अंग्रेजों से हमने आजादी पाई
लेकिन नेताओं से आजादी बाकी है मेरे भाई।

-बरुण कुमार सिंह

परिचय - बरुण कुमार सिंह

लेखक परिचय: बरुण कुमार सिंह शिक्षा: ‘विभिन्न सम्प्रदायवाद एवं राष्ट्रवाद पर शोध’: काशी प्रसाद जयसवाल शोध संस्थान, पटना स्नातकोत्तर (इतिहास): बी. आर. अम्बेदकर बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर पत्रकारिता एवं जनसंचार में स्नातकोत्तर डिप्लोमा: महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा स्वतंत्र लेखक, विभिन्न पत्र-पत्रिका व वेबपोर्टल के लिए लेखन। पता- 10, पंडित पंत मार्ग नई दिल्ली-110001 मो. 9968126797 ई-मेल: barun@live.in