विकलांग बल चुनाव

फरवरी २०१९ विकलांगों के लिए महत्वपूर्ण रहा, इस माह विकलांग बल के हाई कमान और कार्यकारी दल का गठन किया गया।
2 फरवरी को सनी परमार द्वारा निर्मित और विजय कुमार सिंघल द्वारा निर्देशित विकलांग बल के लोगो को मान्यता दी गई।
निर्णय संख्या वीबी१५/२०७५ के तहत कार्यकारी दल का चुनाव करवाया गया, दिनांक  3 फरवरी को चुनाव प्रक्रिया आरम्भ हुई और दिनांक 7 फरवरी को चुनाव परिणाम घोषित किए गए।
चुनावी प्रक्रिया में 6 वैध नामांकन थे –
1) गुरुप्रसाद तिवारी  (प्राप्त वोट – 9)
2) दिनेशपति त्रिपाठी (प्राप्त वोट – 10)
3) दीपक मेहता (प्राप्त वोट – 19)
4) दुर्गाबख्श सिंह (प्राप्त वोट – 13)
5) मानसी गुप्ता  (प्राप्त वोट – 1)
6) विजयसिंह यादव (प्राप्त वोट – 16)
कुमारी मानसी द्वारा बीच में ही किसी कारणवश नामांकन वापस ले लेने के पश्चात 5 उम्मीदवारों को ही अंतिम माना गया।
विजय कुमार सिंघल, अनुज मेहता, सारिका भाटिया पहले ही निश्चित हो चुके थे; पूर्व कार्यकारी दल के एकमात्र सदस्य मोहित सिंह को भी बनाए रखने का निर्णय लिया गया; नए चुनावों से तीन नए विजेता चुने गए- दीपक मेहता, विजयसिंह यादव और दुर्गाबख्श सिंह।
चुनावों के पश्चात् शक्ति विभाजन की प्रक्रिया की गई जिससे सभी के कार्यक्षेत्र निश्चित किए गए।
कार्य विभाजन

हाई कमान
प्रधान – विजय कुमार सिंघल- वीटो शक्ति, निर्वाचन प्राधिकार, आवश्यकतानुसार पदवी के वितरण और संशोधन के लिए अधिकारिक प्रमुख।
आंतरिक चांसलर – अनुज मेहता – वित्त, प्रशासन, कार्यक्रम, स्थापना
बाह्य चांसलर – सारिका भाटिया – संपर्क, संचार, प्रसार, सार्वजनिक सम्बन्ध
कार्यकारी दल
कार्यकारी दल प्रमुख – मोहित सिंह रठुर – डिप्टी चांसलर (आंतरिक व बाह्य)
वन और वनवासी क्षेत्र – दीपक मेहता
ग्रामीण और छोटे नगरों का क्षेत्र – दुर्गाबख्श सिंह गहलोत
रिकॉर्ड कीपर – विजय सिंह यादव
हाई कमान के अन्य सदस्य और कार्यकारी दल प्रधान को उत्तरदायी हैं। प्रधान केवल बल के संविधान के अनुसार कार्य करने के लिए बाध्य है।
उत्तराखण्ड के पुराने सदस्यों की वापसी
चुनावों के पश्चात उत्तराखण्ड के अमित डाभोल और अपूर्व नौटियाल को उनके आग्रह पर सम्मानपूर्वक पुण: बल में जोड़ा गया|