गीत/नवगीत

गीत – श्रमिक जीवन

कब जीवन है सुखद सरल सा , कठिनाई में ढलना है।
शीष धार लकड़ी का गठठर ,तीव्र वेग से चलना है ।
रहने को नहि ठौर ठिकाना ,बालक छोड़ कहां आऊँ ।
हुआ क्षुधातुर शिशु  कोमल सा ,स्तन पान कराती जाऊँ ।
ग्रीष्म ऋतु की अकुलाहट के ,सँग सँग शिशु को पलना है
शीश धार लकड़ी का गठठर ,तीव्र वेग से चलना  है ।।
मलिन हुई है कंचन काया ,लेकिन मुख पर रोष नही ।
मेरे  भाग्य  यही  बदा  है  ,ईश्वर  तेरा  दोष  नही ।
क्रूर नियति  हो गई मजबूरी ,गिरकर आप सँभलना है ।।
शीश धार लकड़ी का गठठर ,तीव्र वेग से चलना  है ।।
नही वसन  है तन पर पूरे , धूप चुभी  है  पाँवों में ।
घर मे  नही  अन्न  का  दाना ,बदहाली है गाँवों में ।
कोस दूर से लकड़ी लाने ,घर से रोज निकलना है ।।
शीश धार लकड़ी का गठठर ,तीव्र वेग से चलना  है । ।
रीना गोयल ( हरियाणा)

परिचय - रीना गोयल

माता पिता -- श्रीओम प्रकाश बंसल ,श्रीमति सरोज बंसल पति -- श्री प्रदीप गोयल .... सफल व्यवसायी जन्म स्थान - सहारनपुर .....यू.पी. शिक्षा- बी .ऐ. आई .टी .आई. कटिंग &टेलरिंग निवास स्थान यमुनानगर (हरियाणा) रुचि-- विविध पुस्तकें पढने में रुचि,संगीत सुनना,गुनगुनाना, गज़ल पढना एंव लिखना पति व परिवार से सन्तुष्ट सरल ह्रदय ...आत्म निर्भर

Leave a Reply