बाल कविता – गुब्बारे  में

हवा   भर कर  गुब्बारे  में।
खेल रहा था मैं चौबारे में।।

हाथ में था , लगता प्यारा।
मस्त बढ़िया निक न्यारा।।

हाथों से  सहलाते जाता।
स्नेह मैं जतलाते जाता।।

अचानक  हाथ से  छुटा वह।
लगा मुझसे जैसे रूठा वह।।

टीकेश्वर सिन्हा “गब्दीवाला” 

परिचय - टीकेश्वर सिन्हा "गब्दीवाला"

शिक्षक , शासकीय माध्यमिक शाला -- सुरडोंगर. जिला- बालोद (छ.ग.)491230 मोबाईल -- 9753269282.