गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

बिगाड़े है खुदा, बनाता भी तो है
निराशा में आशा, जगाता भी तो है।

भले ही कष्ट कितने वो दे दे हमें
हरिक का साथ पर निभाता भी तो है।

हमें वो उलझनों में डाले है मगर
सही रस्ता हमें दिखाता भी तो है।

सिखाता दूर रहना सबको इश्क से
चिरागे इश्क पर जलाता भी तो है ।

हरिक को सीख प्रेम की वो बांटता
भरी जो नफ़रतें, मिटाता भी तो है।

भले ही डूब जाए जीवन की नौका
भँवर से पार वो कराता भी तो है।

अलग अंदाज है उसका क्या कहें
रुलाता है वही, हँसाता भी तो है।

समझ आई मुझे हकीक़त ‘सोनिया’
गिराता है वही, उठाता भी तो है ।

— डाॅ सोनिया

परिचय - डॉ सोनिया

मैं डॉ सोनिया (बी.डी.एस; ऍम.डी.एस) चंडीगढ़ के समीप,डेराबस्सी शहर में रहने वाली हूँ! चिकित्सक होने के साथ साथ लिखना मेरा शौंक है! २००५ में पहली बार मैंने कुछ लिखने की कोशिश में अपनी कलम उठाई थी और, आगे ही आगे लिखने का सफर चलता रहा! कुछ कविताएँ हरियाणा की पत्रिका “हरिगंधा में प्रकाशित हुई! मेरी हाल ही में दो काव्य संग्रह प्रकाशित हुई हैं! मैं अंग्रेजी में भी कविताएँ लिखती हूँ, और कुछ पत्रिकाओं में प्रकाशित भी हुई! मेरे तीन अंग्रेजी और तीन हिंदी के काव्य संग्रह शीघ्र ही प्रकाशित होने वाले हैं! कवियत्री होने के साथ साथ मुझे चित्रकारी, गायिकी, सिलाई, कढाई, बुनाई, का भी हुनर प्राप्त है! मेरे जीवन की अनुकूल परिस्थितयों ने मुझे इन सब कलाओं का अस्तित्व प्रदान किया! कहते हैं, ”इरादे नेक हों तो सपने भी साकार होते हैं, अगर सच्ची लग्न हो तो रास्ते भी आसान होते हैं”..अपनी लिखी इन्हीं पंक्तियों ने मुझे हमेशा प्रोत्साहित किया आगे बढने के लिए ! मेरा हर कार्य मेरे ईश्वर, मेरे माता पिता को समर्पित है, जिनके आशीष से मैं आज इस मुकाम तक पहुंची हूँ ! आशा है मेरी कलम से तराशे शब्द थोड़े बहुत पसंद अवश्य आएँगे सभी को!!!

Leave a Reply