बाल कविता – मेला

नदी किनारे लगा था मेला,
सारे बच्चे मिलजुल गये घूमने |
धमा-चौकड़ी सबने खूब मचाई,
देखा जो हाथी बनाके साथी लगे चूमने ||
दही, जलेबी, पानी-पूरी, हलवा और कचौड़ी,
सब बच्चों ने चख-चखकर खाई |
फिर सर्कस जाने की पूरी करी तैयारी,
शेर, लोमड़ी, भालू, चीता और देखा बंदर भाई ||
एक जगह चटख रहे मक्का के फूले,
और थोड़ा आगे लाल, हरे, पीले गुब्बारे |
सब बच्चों ने थोड़े-थोड़े लिये खरीद,
धीरे-धीरे सांझ हो गई, शौक हुए न पूरे ||
चश्मा, चकरी, झुनझुना और बांसुरी,
खाकर आइसक्रीम लेली टोपी-बंदूक |
घूम-घामकर मेला, घर जाने की करी तैयारी,
गाँव के प्रधानजी खरीद लाये एक संदूक ||
संदूक रखा ट्रैक्टर की ट्राली में,
ऊपर चढ़ गये सारे बच्चे |
सरपट-सरपट दौड़ा ट्रैक्टर,
मेला देख हंसी-खुशी घर आये बच्चे ||
— मुकेश कुमार ऋषि वर्मा 

परिचय - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

नाम - मुकेश कुमार ऋषि वर्मा एम.ए., आई.डी.जी. बाॅम्बे सहित अन्य 5 प्रमाणपत्रीय कोर्स पत्रकारिता- आर्यावर्त केसरी, एकलव्य मानव संदेश सदस्य- मीडिया फोरम आॅफ इंडिया सहित 4 अन्य सामाजिक संगठनों में सदस्य अभिनय- कई क्षेत्रीय फिल्मों व अलबमों में प्रकाशन- दो लघु काव्य पुस्तिकायें व देशभर में हजारों रचनायें प्रकाशित मुख्य आजीविका- कृषि, मजदूरी, कम्यूनिकेशन शाॅप पता- गाँव रिहावली, फतेहाबाद, आगरा-283111