समाचार

संस्कार भारती से सम्मानित हए युवा कवि रुपेश

बिहार के सिवान जिले के चैनपुर गाँव के मध्यवर्गीय परिवार में जन्मे व भौतिक विज्ञान के छात्र रूपेश कुमार, पुत्र- श्री भीष्म प्रसाद, को अखिल भारतीय साहित्यिक एवं कला संस्थान “संस्कार भारती, नोयडा” द्वारा शताब्दी साहित्य कुम्भ में चलने वाले दस दिवसीय सम्मेलन में श्रेष्ठ आने पर “पद्मश्री डॉक्टर विष्णु श्रीधर वाकणकर सम्मान” से सम्मानित किया गया ! इससे पहले रुपेश को “ब्रिटिश वर्ल्ड रिकॉर्ड – 2020” लंदन से जुलाई मे सम्मानित किया जा चुका है। साथ ही भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन प्रतियोगी संस्था “स्टोरी मिरर इंडिया, मुंबई” के द्वारा “लीटररी कैप्टन एवं कर्नल की उपाधियों से उन्हें सम्मानित किया जा चुका है ! इसके अतिरिक्त ‘ऑल इंडिया हिंदी उर्दू एकता ट्रस्ट(रजि) संस्था से “साहित्य साधक”, साहित्य संगम संस्था इंदौर से ‘अभ्युदय सम्मान,  राष्ट्रीय सखी साहित्यिक संस्था, असम, आदर्श साहित्य समाज इंडिया भोपाल, कलम की सुगंध हरियाणा से वे सम्मानित किये जा चुके हैं !  भारत की राष्ट्रीय साहित्यिक संस्था “राष्ट्रीय राजभाषा पीठ प्रयागराज” का पहला सम्मान’ भारती भूषण ‘ महान कहानीकार डॉक्टर संत कुमार टंडन “रसिक” जी के कर कमलों द्वारा 2011 मे रूपेश कुमार को प्रदत किया गया था। इसी से शुरु हुई इनकी साहित्यिक यात्रा अनवरत जारी रही।  इन्हें विभिन्न विधाओं मे कई अवसरों पर देश के प्रतिष्ठित संस्थानों व साहित्यिक पत्रिकाओं द्वारा विभिन्न सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है! इनकी योग्यता, प्रतिभा, कार्यकुशलता व कर्तव्यनिष्ठा को देखते हुए 2018 मे अखिल भारतीय साहित्यिक संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह संस्थापक नवलपाल प्रभाकर “दिनकर” जी के द्वारा संस्था के राष्ट्रीय महासचिव के लिए नामित एवं सम्मान किया गया। यह संस्था आज साहित्य की दिशा मे निशुल्क निस्वार्थ भाव से कार्य करती हुई लगातार सफलता की ओर बढ़ रही है ! इनकी हाल ही मे प्रकाशित पुस्तक “मेरी कलम रो रही है” काफी चर्चा में है और ऑनलाइन / ऑफ़लाईन तेजी से बिक रही है! अब तक के इनके साहित्यिक सफर में इन्हें 200 से ज्यादा विभिन्न राष्ट्रीय,अंतराष्ट्रीय सम्मानों से नवाजा जा चुका है! विज्ञान के छात्र रूपेश कुमार के लिए साहित्य उनका शौक है तथा समाज के नवनिर्माण के लिए अत्यंत आवश्यक है।

Leave a Reply