गीत/नवगीत

मृगतृष्णा गीत

चाह रहा हिय कभी न टूटे,
जीवन की यह डोर।
हाय अभागी ओ मृगतृष्णा!
कहाँ तुम्हारा छोर?

रूप बदलता भाग रहा हैै,
समय बहुत बलवान।
समझ सका हैै मनुज भला क्या,
विधि का कभी विधान?
ईश मिलाते इष्टजनों से,
करें हृदय के पास।
तोड़ रहा पर द्वेष-दंभ नित,
प्रेम और विश्वास।।
तप्त यामिनी दग्ध दिवस हैं,
छाया तम घनघोर।।१।।
चाह रहा हिय कभी न टूटे,
जीवन की यह डोर।।

पीड़ा की गागर छलके जब,
बहे अश्रु की धार।
होता है तब जीना दुष्कर,
श्वास लगे बस भार।
कभी न होते हैं दुख स्वाहा,
होते व्यर्थ उपाय।
तत्क्षण दिखते व्याकुल कितने,
प्राण-प्राण असहाय।
क्यों जलती है चिता स्वप्न की,
पूछें भीगे कोर।।२।।
चाह रहा हिय कभी न टूटे,
जीवन की यह डोर।।

ऊषा के माथे पर रचता,
जो कुँकुम श्रृंगार।
वही दिवा के पग छू करता,
व्यक्त प्रेम-आभार।।
रँग देता है वही महावर,
जैसे बरसे फाग।
कोकिल के कोमल स्वर में वह,
मधुर छेड़ता राग।
सुख की वंशी लिए हाथ में,
विहँस रहा चितचोर।।३।।
चाह रहा हिय कभी न टूटे,
जीवन की यह डोर।।

आयें हर्षित होकर ऋतुएँ,
बरसाएँ उपहार।
आतुर हों प्रतिक्षण देने को,
सुखद एक संसार।।
चिर काल हँसे यह जग सारा,
चिरजीवी हो नेह।
चिरयुवा सृष्टि की सुन्दरता,
महकाये हर गेह।।
जब तक पुष्प खिलें धरती पर,
रहे सुहानी भोर।।४।।
चाह रहा हिय कभी न टूटे,
जीवन की यह डोर।।

ढूँढ़ रहा है किसको ये मन,
गंगा के उस पार।
कौन खड़ा हैै तट पर जिसको,
नयना रहे निहार।
भेज रहा क्या लहरों के सँग,
वही मुझे संदेश।
हँसी ‘अधर’ पर लेकर अद्भुत,
लिए अनोखा वेश।
कैसा है शीतल सम्मोहन,
खींचे अपनी ओर।।५।।
चाह रहा हिय कभी न टूटे,
जीवन की यह डोर।।

— शुभा शुक्ला मिश्रा ‘अधर’

परिचय - शुभा शुक्ला मिश्रा 'अधर'

पिता- श्री सूर्य प्रसाद शुक्ल (अवकाश प्राप्त मुख्य विकास अधिकारी) पति- श्री विनीत मिश्रा (ग्राम विकास अधिकारी) जन्म तिथि- 09.10.1977 शिक्षा- एम.ए., बीएड अभिरुचि- काव्य, लेखन, चित्रकला प्रकाशित कृतियां- बोल अधर के (1998), बूँदें ओस की (2002) सम्प्रति- अनेक समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में लेख, कहानी और कवितायें प्रकाशित। सम्पर्क सूत्र- 547, महाराज नगर, जिला- लखीमपुर खीरी (उ.प्र.) पिन 262701 सचल दूरभाष- 9305305077, 7890572677 ईमेल- vshubhashukla@gmail.com

Leave a Reply