हाइकु/सेदोका

हाइकू – माँ अम्बे को नमन

माँ तुम जैसा
स्नेह-ममत्व पाऊँ,
कहाँ जग में ।
——
कभी बनती,
गौरी कभी काली सी,
माँ कल्याण को ।
——
धर कलश
करूँ मैं माँ स्वागत,
बना साँतिया ।
——-
नारियल को,
सजाकर पत्र से,
कर जोड़ता ।
——
थाल सजाके,
फूल-प्रसाद तुझे,
अर्पण करूँ ।
—-
तेज़ मुख पे,
लिए आ रही तुम,
हरने पीड़ा ।
—-
करो प्रवेश,
हे! शक्तिरूपा आया,
शुभ मुहूर्त ।
— भावना ‘मिलन’ अरोरा 

Leave a Reply