सामाजिक

भावनाओं पर चलता शूल,ये कैसा अप्रैल फूल

भावनाओं पर चलता शूल,ये कैसा अप्रैल फूल: पाश्चात्य संस्कृति का प्रभाव पड़ने से हमारे देश में अनेक तरह की परम्पराओं का आगमन हुआ है l अप्रैल महीना आते ही लोग अत्सुकता के साथ एक-दूजे को अप्रैल फूल मनाने में लग जाते हैं l इस बात से हम सभी अवगत हैं कि हर एक व्यक्ति की […]

भजन/भावगीत

•भजन•वो अपना बांके बिहारी…

•भजन• नंद जी के नंदन का, अवसर है अभिनंदन का, गा भजन अब वंदन का, टीका कर ले चंदन का, फिर आयेगा रे गिरधारी, वो अपना बांके बिहारी| है हृदय ठकुरानी राधा, मुरली बिन घनश्याम आधा, तन सुंदर पितांबर ओढ़े, लहराए जब आंगन दौड़े, जिसकी काया कारी-कारी, वो अपना बांके बिहारी| नटखट माक्खन चोर निराला, […]

गीत/नवगीत

अपनी यादों को घर में दफ़न मत करो…

•गीत• आज ऐसा गलत तुम जतन मत करो,अपनी यादों को घर में दफ़न मत करो,मैंने आँसू की बूँदों से सींचा इसे,इस गुलिस्तां को उजड़ा चमन मत करो| हर नज़र से बचाकर हिफाज़त करी,रात भर जागकर ठीक हालत करी,मैंने उत्तम तुम्हारा चरित्र किया,अपनी ममता के रस से पवित्र किया,मैला अपना ये प्यारा बदन मत करो,आज ऐसा […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल : बेटी के अधिकार में

आज कलम चलने लगी है बेटी के अधिकार में, क्योंकि हार ज़माने की है हर बेटी की हार में, मैं बताना चाह रहा अपने सामाजिक दर्पण को, घुट घुट कर जो जी रही बेटी के उस समर्पण को, सात फेरों का बंधन है जो वचनों के संग बनता है, और आत्मा के मिलन से जीवन […]

कविता

कितने क्षण और हैं…

कितने क्षण और हैं तेरी प्रतीक्षा केे, रात्री की निद्रा पर अंकुश सा लग गया है, प्रेम के कारण मैं तुम्हें अपने प्रत्यक्ष कभी-कभी ऐसे महसूस करता हूँ जैसे मेरे समक्ष वाकई तुम बैठकर मुझसे बातें करती हो|   कवि योगेन्द्र जीनगर “यश”

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

बस  यही  तुम  सोच  लेना  हम धुआँ है, हो  जहाँ  भी   संग  अपने  आसमाँ   है! देखना  तुम  हम  अकेले  है  नहीं   अब, राह  सच  की  है  तभी  तो  कारवाँ   है! दिल ज़मीं पर हो  खुदा  तुम  जो हमेशा, फिक्र ये किस बात की फिर हम कहाँ है! बिन  बुलाए  हम  कहीं  जो  चल पड़े थे, […]

कविता

कविता

आज ज़माने में मानवता पर जहर सा फैला है, दफ्तर का बाबू कहता है बदन तुम्हारा मैला है, जाओ अभी तुम वेश ये अपना कल बदलकर फिर आना, ये हमारा मंदिर है ना दफ्तर के मंदिर आना, वेश बदल दूंगा पर मुझको ये चिंता अब सता रही, कल देश का क्या भविष्य होगा इतना बता […]