गुलामी की सीख

भारत भिखारियों का देश
यही है आधुनिकता के
लिवास में लिपटे
लोगों का सन्देश
सच में भिखारी
हैं सर्वव्यापक
कौन ऐसा शहर
या गाँव है
जहाँ नहीं इनका ठांव है
न जाने अबतक
कितनों को देखता रहा हूँ
और सोचता भी रहा हूँ
भिखारी भिक्षाटन को
दर-ब -दर भटकता है
भिखारी जानकर ही तो
कोई पास नहीं फटकता है
और हर चौखट पर
अपनी व्यथा
उम्मीद से बकता है
कहीं मिलती सहानुभूति
तो कहीं अपमान गटकता है
बेरोजगारी और भिखारी
हैं दोनों जुदुवाँ भाई
जिसके पास है कटोरा
कहते उसे भिखारी
वहीं दूजा है डिग्रीधारी
पर हैं दोनों भिखारी
पास दोनों के
करुण कथा है
पढ़े-लिखों की
यही व्यथा है
डिग्री नहीं है ये
कटोरा है भीख का
गुलाम बनने की कला
और गुलामी की सीख का

परिचय - श्याम स्नेही

श्री श्याम "स्नेही" हिंदी के कई सम्मानों से विभुषित हो चुके हैं| हरियाणा हिंदी सेवी सम्मान और फणीश्वर नाथ रेणु सम्मान के अलावे और भी कई सम्मानों के अलावे देश के कई प्रतिष्ठित मंचों पर अपनी प्रस्तुति से प्रतिष्ठा अर्जित की है अध्यात्म, राष्ट्र प्रेम और वर्तमान राजनीतिक एवं सामाजिक परिस्थितियों पर इनकी पैनी नजर से लेख और कई कविताएँ प्रकाशित हो चुकी है | 502/से-10ए, गुरुग्राम, हरियाणा। 9990745436 ईमेल-snehishyam@gmail.com