राखी और पंचवटी प्रसंग

1.राखी

राखी के कच्चे धागों में,
बंधा हुआ है इतना प्यार,
कर्मवती की राखी पाकर,
हमायूं को हुआ गर्व अपार.
झटपट उसकी रक्षा हेतु,
सेना ले तैयार हुआ,
राखी न जाने जन्म के बंधन,
राखी का सम्मान हुआ.

2.पंचवटी प्रसंग

पंचवटी में जनकसुता ने,
देखा मृग मारीच,
प्राणप्रिया की इच्छा पर मृग,
चले मारने ईश.

मौका पाकर रावण ने तब,
हरण किया सीता का,
”हा हा” करती सीता बोली,
बदला लिया किस ऋण का.

कैसी विकट घड़ी में मैंने,
मांगी थी मृगछाला,
संकट में अब लाज पड़ी है,
पड़ी विरह की ज्वाला.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।