अच्छी आदतें

झटपट जागो सुबह को मोनू
जाना है तुम्हें पाठशाला,
दांतुन करके नहा धोकर
पीना है दूध, भर प्याला।

करो ना परेशान मां को तुम
मां होती है बहुत ही प्यारी,
ममता से भरा है मन उसका
वह है जग में सबसे न्यारी।

पापा की सब बातें सुनना
बहुत करते हैं तुमसे वो दुलार,
उनके हृदय का टुकड़ा हो तुम
देना उनको सम्मान और प्यार।

अपनी शिक्षिका की बातें मानना
करना ना उन की अवहेलना,
सबसे पहले जाकर पाठशाला
उनको प्रणाम है तुम्हें करना।

फिर मिलकर अपने दोस्तों से
उनका हाल चाल है पूछना,
जो भी पढ़ाई होती है कक्षा में
ध्यान लगाकर है सब सुनना।

जब खेलने का समय होता है
ना किसी से तुम झगड़ना,
जो भी खेल सिखाएं गुरुजी
मन लगाकर सब सीखना।

जब खाने का समय हो जाए
मिल बांट कर सब कुछ खाना,
बांटने में है बहुत खुशी मिलती
सारी खुशियां तुम बटोर लेना।

जो भी नियम है पाठशाला के
उनका कभी उल्लंघन ना करना,
आज तुम हो एक नन्हा बच्चा
कल अच्छा नागरिक है बनना।

गर्व से अपने माता- पिता के
शीष तुम्हें ऊंचा है सदा रखना,
तुम नन्हे मुन्ने सिपाही देश की
देश का भविष्य उज्जवल करना।

पूर्णतः मौलिक-ज्योत्स्ना पाॅल।

परिचय - ज्योत्स्ना पाॅल

भारतीय स्टेट बैंक से सेवानिवृत्त भोपाल (म.प्र.) ईमेल - paul.jyotsna@gmail.com