कुंडली

अफरीदी क्या कह रहा, सुन ले पाकिस्तान
तू भी सुन हाफिज मियां, सुन ले ‘बे’ इमरान
सुन ले ‘बे’ इमरान, अरे खल, पाकी टुच्चे
जिस दिन सेना सनकी, नहीं बचेगा लुच्चे
कह सुरेश आएंगे काम न भइया-दीदी ।
भिखमंगे कुछ सीखो क्या कहता अफरीदी ।।

सुरेश मिश्र

परिचय - सुरेश मिश्र

हास्य कवि