फिर सदाबहार काव्यालय-11

कविता – नया साल

बेटे ने पूछा- ”मां!
बाहर सब शोर मचा रहे हैं,
नए साल को बुला रहे हैं.
क्या शोर मचाने से
नया साल आएगा?
इस शोर से डर कर
कहीं भाग तो न जाएगा?”
मां उस की बातों पर हंसी
फिर सोच में फंसी
यह क्या जाने क्या नया साल है
हमारा तो जो कल था
वही आज भी हाल है
फिर भी,
बच्चे को कुछ तो बताना था
उस के मन की उत्सुकता को बुझाना था
“नया साल आएगा“
कह कर बच्चे को सुला दिया
भविष्य के स्वर्णिम झूले पर
झुला दिया
सुबह बिस्तर से उठा बच्चा
बोला- ”मां
कहां हैं उमंगें?
कहां हैं खुशियां?
यह तो वही भोर है
जो कल थी
सब कुछ वही है जो कल था
कुछ नया नहीं सब पुराना है.”
अपने को उम्मीदों के,
घेरे में डाल कर
आज के वर्तमान को
भविष्य की डोर में बांधकर,
परिस्थितियों से करना है समझौता.
इसलिए एक निश्चित
तारीख पर
पिछले पन्ने को पलटकर
नए पन्ने पर करते हैं हस्ताक्षर
वरना, सच-सच बताना
मेरे दोस्तो-
कल की सुबह
और आज की सुबह में
कुछ अन्तर पाया?
कुछ नया नज़र आया?
नहीं
फिर भी सब करेंगे प्रयास
कुछ नया कर दिखाने को
और संजोएंगे नई खुशियां
नए अरमान
फिर मचाएंगे शोर
एक और नया साल बुलाने को
उमंगों भरा फिर एक नया साल
आएगा–
अन्दर बाहर शोर मचाने से
भाग नहीं जाएगा.

श्रीमती कैलाश भटनागर
ऑस्ट्रेलिया से 94 वर्ष की युवा कलमकार कैलाश भटनागर की ताजा कविता

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।