कविता

कोई तो है

 

मेरे मन को छूने का हुनर वो जान गया है।
आँखों मे छिपे अश्को को पहचान गया है।।

कोई रिश्ता नही है उससे लेकिन वो मेरे मन
के हर कोने के छिपे दर्द को पहचान गया है।

हर एक रिश्ता जब मुझे हर वक्त छल रहा था।
वो मेरे दर्द को अपना मान मेरे साथ चल रहा था।।

ना उसने,ना कभी मैंने अपने रिश्तों को नाम दिया।
मैं जब भी जहाँ थका,उसने मेरा हाथ थाम लिया।।

वो कोई दोस्त नही,प्यार नही ना ही मेरा साया है।
जब छल रहा था काल मुझे,मैंने उसे पास पाया है।।

माना रिश्तों को एक नाम देना भी जरूरी हो जाता है।
कोई तो है,ये एहसास इन बातों को कहाँ मान पाता है।।

चलते रहना साथ यूँही,जब तक जीवन का अंत ना हो।
रिश्ता कोई बने ना बने,एहसासों का कभी अंत ना हो।।

परिचय - नीरज त्यागी

पिता का नाम - श्री आनंद कुमार त्यागी माता का नाम - स्व.श्रीमती राज बाला त्यागी ई मेल आईडी- neerajtya@yahoo.in एवं neerajtyagi262@gmail.com ग़ाज़ियाबाद (उ. प्र)

Leave a Reply