कविता पद्य साहित्य

बिहार में नियोजित शिक्षकों की हड़ताल

यह 13वां साल,13वीं लिए मरगिल्ला भात-सत्तू खाते बीत गए,
नियत पापड़ का नियोजित साइज, मानस-पटल पर छा गए.
●●

कहने को राष्ट्रनिर्माता, पर हर सरकारी काम कराते हैं, 
सही मच्छरदानी लेने का भी औकात नहीं, मच्छरों से डंसवाते हैं.
●●

स्कूली छात्रों को साइकिल, नेपकिन, शिक्षाधिकारी को चाहिए वॉचर,
शिक्षक न सिर्फ़ नियोजित हैं, अपितु हो गए ठेकेदार, जंतु उभयचर.
●●

ऐसे में शिक्षकों पे गान कैसा ? सामाजिक शान, सम्मान कैसा,
पेट में ना हो चौबीस सौ कैलॉरी, तो गुणवत्तापरक शिक्षा हो कैसा ?
●●

बनिये के यहाँ से राशन छमाही, लिए बकाए और सूद कटाये,
अग्रज को मिले पेंशन-वेतनमान, तो हम उनके हनुमान भक्त कहाये.
●●

देकर स्कूल में आधा घंटा एक्स्ट्रा, कब्ज़ लिए पेट भी रहे डरा-डरा,
पोशाक राशि, छात्रवृत्ति में माथापच्ची, सोते में भी रहते खड़ा-खड़ा.
●●

बच्चों की रुचि कहानी में जब, तब रूटीन में आती अर्थशास्त्र घंटी,
हुए दस-पाँच मिनट लेट, तो मूढ़मगज शिक्षाधिकारी की पड़ी लंठी.
●●

अधिकारी निकालते शोकॉज़, दक्षिणा माँगते उनके ड्राइवरवा बंटी,
कुँवारे टीचर से माँगते स्क्रीनटच मोबाइल औ’ बीवी के लिए ब्रा-पेंटी.
●●

यह 13 साल तो आलू-सोयाबीन की सब्जी लिए दाँत भी सकपकाई,
दोस्त शिक्षकों के घर आज भी अरहर दाल ने मुँहफेर ठेंगा दिखाई.
●●

नियोजित शिक्षकों की मजदूरी बीपीएल से कम, ईद-डीपी भी दुःखी,
वेतनमानवाले अग्रज शिक्षक या शिक्षाधिकारी इनसे 500% सुखी.
●●

बिहार काहे कु विशेष राज्य, जो कि नौ मन तेल-फेर में नचाने चले,
वो है कुत्ते की पूँछ, जिसे हम पीपे सहारे सीधी क्यों कराने चले.
●●

उनकी सब्जी तो सब्जा कहलाती, भात तो भतार-पतवार है,
कोचिंग रजिस्टर्ड कराके कहते तब, नियोजित शिक्षक अवतार है.
●●

ख़ैर, अगर यही ज़िन्दगी है, तो यह उनकी भारी-भरकम दिल्लगी है,
जाते-जाते कर अभिनंदन, सभी नियोजित शिक्षकगण संग-संगी है.
●●

पीले पड़ चुके नियोजित शिक्षक, भय छोड़ कर एकता का वरण,
कर्ज लेकर कर चार्वाक भोजन, कि कब मिलेंगे वेतन हे भगवन ?
●●

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply