कथा साहित्य लघुकथा

नीरस वर्सेज सरस

उपस्थिति दस हजार से कम नहीं और 11 लाख से ऊपर दर्शक लाइव टेलीकास्ट के, बावजूद बेहद अनुशासनप्रिय शादी, जिनमें प्रसन्नता कम और खामोशी ही ज्यादा थी । राजकुमारी बनी मिस मार्कले में प्रसन्नता देखी गई, किन्तु प्रिंस में उदासी थी।
लंदन में महाराजाओं, महारानियों के घर शादी क्या ऐसी ही होती है ? न कोई नाच-तमाशा, न कोई फुलछर्रे, गुलछर्रे ! एक वायलिन बज रही थी,  जिनसे निकल रही थी ‘विरहा’ ! शादी-समारोह में इतने अनुशासन…. मानो देश में आपात स्थिति लगाने की मन्त्रणा चल रही हो ! क्या लन्दन में ऐसी ही शादी होती है ? हाँ, दुल्हिन लड़केवाले के यहाँ थी, हमारी परंपरा से उलट ! सिर्फ यही अच्छा लगा। दुल्हिन पक्ष का खर्च बचा।
×××
वहीं भारत के पटना में एक राजकुमार की शादी हुई, हालांकि लड़का इंटर फेल हैं और लड़की एमबीए पास ! वैसे बड़े लोगों की डिग्री थोड़े ही देखी जाती है, किन्तु बीस हजार बाराती गए थे, जानवरों के  चिकित्सा महाविद्यालय परिसर में, जहाँ लाठी भी खाए, तो मिठाई भी । धुरपट डीजे-लीजे चला और उछल-कूद तो अपरम्पार रूप लिए था ! मंगल-गीत, मनुहार, जूता चोरी… भारत में हिंदुओं में ऐसे ही नगाड़ों की चोट पर शादी होती है।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply