इतिहास हास्य व्यंग्य

दोस्त के नाम अर्ज

प्रिय मित्र,

सादर नमस्ते !

संभवतः, हमदोनों एक-दूसरे को तब से जान रहे हैं, जितनी भाभी की उम्र भी नहीं होगी ! फ़ोन पर भाभी से अबतक एकाध बार ही बातें हुई होंगी !

यह तो जानते ही होंगे कि देश के सभी कार्यालय डेस्क पर सहकर्मियों के बीच पारिवारिक प्रतिबद्धताओं से लेकर राजनीतिक बातें होती ही है ! किन्तु वहाँ भी व्यक्तिशः बातें बहुत कम ही होती है ! हाँ, बहुत सारी सम्बन्धित बातें तो अन्य सहकर्मी बता देते हैं ! जो उनकी द्वारा भी इतर शेयर किए जाने के प्रसंगश: है !

वैसे तुम जानते ही हो, मैं Writer हूँ तथा प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सवर्णों से घिरा है । इसके विन्यस्त: ‘सोशल मीडिया’ विचार-अभिव्यक्ति का माध्यम बनता जा रहा है और मेरी  FB पोस्ट पर किसी के नाम नहीं रहते !

वैसे व्यंग्यात्मक पोस्ट तो सिर्फ़ आईना दिखाने के लिए होता है ! बदलना तो लोगों को खुद होता है ! मेरा परिवार तुम्हारे परिवार का शुभचिंतक है और जिनमें सभी सदस्यों के लिए आदर और स्नेह के भाव शामिल हैं !

मेरे विरोधियों द्वारा भी कई बातें साजिशतन उकसाये जाते रहे हैं ! जहाँ मुझे सपोर्ट मिलना चाहिए, वहाँ नहीं मिली ! हमलोग ‘शून्य’ से उठे हैं, भाई ! गरीबी को भोगा है !

अरे यार ! कम से कम हमलोग दूसरों के बहकावे में नहीं आएं और पीठ पीछे दूसरे के विरुद्ध सुने ही क्यों, क्योंकि हमलोग काफी बौद्धिक विरासत सँभाले हुए हैं !

शेष कुशल !
सामान्य दिनों में कभी चाय पर भी तो बुलाते, एक कसक रह ही गया !

दोस्त के नाम अर्ज़ है-

“दोस्त को दौलत की निगाह से नहीं देखा करते हैं;
वफ़ा करनेवाले दोस्त अक्सर गरीब हुआ करते हैं !”

सादर भवदीय- पद नख रज सम।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply