हास्य व्यंग्य

लो वो चली गई……

बिजली रानी को निश्चित ही कोई दूसरा आशिक मिल गई होगी, अन्यथा वो इश्क-मिचौली नहीं करती ! इधर लगातार पन्द्रह दिनों से हर दिन बिजली 15 बार अवश्य ही कटती है । कभी 10 मिनट के बाद आ जाती है, तो कभी 10 घंटे बाद भी नहीं!

जब से अपने गाँव में विद्युत सब ग्रिड हरकत में आई है, लो-वोल्टेज से निज़ात तो मिली है, किन्तु बिजली का यूँ कटना बदस्तूर ज़ारी है । अभी फिर बिजली कट गई और मैं पोस्ट लिखने के साथ-साथ भूँजा फांकने बैठ गया हूँ ।

आजकल कोई मनुष्य भी बिजली बिल लेकर नहीं आते हैं, कम्प्यूटर जैसे नास्तिक मशीन से बिल निकालना पड़ता है और बेमतलब के नास्तिक मशीनचालक 10 रूपा ले ही लेते हैं ! मेरे गाँव में ग्रिड है और फायदा नगर पंचायतवासियों को हो जाता है ।

हमें बिजली रानी के बेवफाई की कड़े शब्दों में निंदा करनी चाहिए तथा उनके राजापिता यानी सरकार को खत लिखना चाहिए कि ‘आपकी बिजली बेटी विवाहिता है, बावजूद उनकी चाल-चलन ठीक नहीं है ।’ पोस्ट के अंत होते-होते बिजली आ गई है, किन्तु उनकी टिकने के आसार नहीं लग रही है ।

लो वो चली गई………

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply