गीत/नवगीत

कजरी

कृष्णा रास रचाए मधुबन में
राधा जी के संग में न।
&&&&&&&&&&&&
रिमझिम बरसे फुहार
ले ले सावन का बहार
राधा रानी का मुखड़ा निहार के
राधा जी के संग में न
कृष्णा रास……….
&&&&&&&&&&&&&&
ग्वाल बाल सब आए
मिलकर रास रचाए
सब सावन के मस्ती में झूम के
राधा जी के संग में न
कृष्ण रास………..।
&&&&&&&&&&&&
झूला झूले कदम डाल
संग झूले राधा प्यारी
खूब रास रचाए मधुबन में
राधा जी के संग में न।
कृष्णा रास……..
&&&&&&&&&&&&&&
बादल हुए घनघोर
बिजली चमके चारु आेर
सब सखियां झूला झूले उपवन में
राधा जी ……….
कृष्ण रास …………।
विजया लक्ष्मी

परिचय - बिजया लक्ष्मी

बिजया लक्ष्मी (स्नातकोत्तर छात्रा) पता -चेनारी रोहतास सासाराम बिहार।

Leave a Reply