भाषा-साहित्य

संस्कृत व्याकरण के आधुनिक रचयिता

संस्कृत भाषा और साहित्य संसार की प्राचीनतम भाषा और साहित्य में है। संस्कृत विद्वान पं. काशीनाथ मिश्र को सादर नमन। मिति 18 जुलाई 2018 को संस्कृत के विद्वान तथा कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति (1998-2001) रहे पं. काशीनाथ मिश्र का निधन 95 वर्ष की आयु में हुआ था, 19 जुलाई 2018 को स्व. मिश्र का अंतिम संस्कार वाराणसी में किया गया था।

उनकी रचित ‘संस्कृत व्याकरण’ काफी प्रसिद्धि प्राप्त की है । यह पुस्तक भारतीय विश्वविद्यालयों के साथ-साथ एक अमेरिकी विश्वविद्यालय के सिलेबस में भी सम्मिलित है। वे राष्ट्रपति पुरस्कृत भी थे।

पं. काशीनाथ मिश्र मेरे एक सहकर्मी के नानाजी थे । पं. मिश्र से सम्बंधित जानकारी उन्हीं से प्राप्त हो पाई । परमशक्ति इस महान व्यक्तित्व को आत्मिक शांति प्रदान करेंगे, सादर नमन और सादर श्रद्धांजलि!

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply