अन्य लेख

बिंदुवार विचार

1.]  अगर राजनीति में हैं, तो आपको मानव-प्रेम कभी नहीं होंगे । अगर होंगे भी तो किसी चिह्नित से ही प्रेम होंगे ।

2.] भारत में भी काला – गोरा में भेद है, यह देख बड़ा अजीब लगता है ! आप किसी असुंदर पर भी दिल लगाकर देखो, तब ही आपकी अहमियत पता चलेगी !

3.] जो जीतता है, वह ही सिकंदर नहीं है ! क्योंकि सिकंदर आततायी थे, वैसे भी वे सभी देश व भूखंडों को नहीं जीत पाये थे ! भारत को तो हरगिज़ नहीं, फिर उसे विश्वविजेता क्यों कहूँ ? हाँ, ऐसी मंशा लिए वे भारत आये थे, किन्तु यहाँ आते ही उनके प्राण-पखेरू उड़ गए ।

4.]  लोग कहते हैं-  ‘मजबूरी का नाम महात्मा गाँधी’। परंतु नए नोट आते ही गाँधी जी और भी विहँस रहे हैं और मजबूर तो इन नोटों के संचयी लोग हैं ! इनके पास बेनामी नोट ही नहीं, बेनामी संपत्ति भी है । ऐसे में बतायेंगे, गाँधी जी कब, कहाँ और कैसे मजबूर हुए ?

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply