लघुकथा

बाबागिरी

नवनीत बचपन से ही बड़ा होनहार था। पहली कक्षा से ग्रेजुएशन तक की सभी कक्षाओं में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण होने के तुरंत बाद अपने पहले ही प्रयास में यू.पी.एस.सी. की परीक्षा पास कर एक आई.पी.एस. अधिकारी बन गया।
निर्धारित प्रशिक्षण और परीवीक्षा अवधि पूरा करने के बाद पुलिस अधीक्षक के रूप में उसकी पोस्टिंग रामपुर जिले में होने के पहले ही हफ्ते गृहमंत्री जी का दौरा हुआ। मंत्री जी को उस क्षेत्र के प्रख्यात बाबा श्री संतराम जी के आश्रम उनके दर्शन के लिए जाना था।
निर्धारित तिथि को वह मंत्री जी के स्वागत के लिए पहुंच गया। जैसे ही मंत्री जी हैलीकॉप्टर से बाहर निकले, नवनीत के आश्चर्य का ठिकाना न था। उसके सैल्यूट के लिए उठे हाथ उठे ही और आँखें फटी की फटी रह गईं। मंत्री जी के रूप में उसकी यूनिवर्सिटी का वही लड़का था, जिसे यूनिवर्सिटी कैंपस में नशीले पदार्थों की बिक्री करने से कॉलेज से निष्कासित कर दिया गया था।
खैर, ड्यूटी तो करनी ही थी। वह मंत्री जी को ससम्मान बाबा जी आश्रम लेकर गया। मंत्री जी को जरा सा भी एहसास नहीं हुआ कि उनके साथ में चल रहा डी.एस.पी. कभी उसका जूनियर छात्र रह चुका है।
आश्रम में बाबा जी के दर्शन कर वह पुनः आश्चर्यचकित रह गया। बाबा जी कोई और नहीं उसी की यूनिवर्सिटी का वह पूर्व छात्र था, जिसे एक जूनियर लड़की से छेड़खानी करने पर बाकी लड़कियों ने मिलकर लात-घूँसों से खूब खातिरदारी करने के बाद पुलिस के हवाले कर दी थी।
आश्रम में मंत्री जी और बाबा जी के बीच मौसेरे भाईयों जैसीे चल रही बातचीत से ऐसा बिलकुल भी नहीं लग रहा था कि उनके संबंध बाबा जी और भक्तों जैसे हैं।
उधर आश्रम के बाहर मंत्री जी की पार्टी के कार्यकर्ता और बाबा जी के भक्तों की भीड़ उनकी जय-जयकार कर रही थी। इधर नवनीत अपनी यूनिवर्सिटी के इन दोनों होनहारों की प्रगति देख किंकर्तव्यविमूढ़ हो गया था।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा

परिचय - डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा

नाम : डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा मोबाइल नं. : 09827914888, 07049590888, 09098974888 शिक्षा : एम.ए. (हिंदी, राजनीति, शिक्षाशास्त्र), बी.एड., एम.लिब. एंड आई.एससी., (सभी परीक्षाएँ प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण), पीएच. डी., यू.जी.सी. नेट, छत्तीसगढ़ टेट लेखन विधा : बालकहानी, बालकविता, लघुकथा, हाइकू, शोधालेख प्रकाशित पुस्तकें : 1.) सर्वोदय छत्तीसगढ़ (2009-10 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी हाई एवं हायर सेकेंडरी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 2.) हमारे महापुरुष (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 10-10 प्रति नि: शुल्क वितरित) 3.) प्रो. जयनारायण पाण्डेय - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 4.) गजानन माधव मुक्तिबोध - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 5.) वीर हनुमान सिंह - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 6.) शहीद पंकज विक्रम - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 7.) शहीद अरविंद दीक्षित - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 8.) पं.लोचन प्रसाद पाण्डेय - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 9.) दाऊ महासिंग चंद्राकर - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 10.) गोपालराय मल्ल - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 11.) महाराज रामानुज प्रताप सिंहदेव - चित्रकथा पुस्तक (2010-11 में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 1-1 प्रति नि: शुल्क वितरित) 12.) छत्तीसगढ रत्न 13.) समकालीन हिन्दी काव्य परिदृश्य और प्रमोद वर्मा की कविताएं अब तक कुल 13 पुस्तकों का प्रकाशन, 40 से अधिक पुस्तकों एवं पत्रिकाओं का सम्पादन. अनेक पत्र-पत्रिकाओं का सम्पादक मण्डल सदस्य. मेल पता : pradeep.tbc.raipur@gmail.com डाक का पता : डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा, प्रबंधक, विद्योचित/लाईब्रेरियन, छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम, छ.ग. माध्यमिक शिक्षा मंडल परिसर पेंशनबाड़ा, रायपुर (छ.ग.) पिन 492001

Leave a Reply