अन्य लेख

गूगल करने की आदत

मित्रो का कहना है कि मेरी अंगुली करने की आदत गई नहीं है, लेकिन उन मित्रों से कहना है कि अबतो लोग यह नहीं बोलते हैं, बल्कि कहते हैं…. बड़ी गूगल करने की आदत है तुम्हारी ! तारीख 27 सितम्बर को सर्च इंजन ‘google’ का जन्मदिवस भी है, आज वे 22 वर्ष की हुई । शब्द ‘गूगल’ फीमेल है, उस लिहाज से भी वे भारत मे 2 वर्ष पहले ही बालिग हो गई है! जन्मदिवस पर उन्हें शुभमंगलकामनाएँ!
••••••
‘जाँघ’ से चिपके रहनेवाले वस्तु को ‘जांघिया’ कहते हैं, उस लिहाज़ से ‘चुतिया’ वस्तु के संज्ञा (अंग) का होंगे, मेरे बालिग पुरुष मित्र? मित्र, हास्य में भाषाई-शिष्टता कहाँ से आ गई ? यह सच है, पढ़े-लिखे लोगों की चूतड़ होती ही नहीं है, क्योंकि आज की भारतीय राजनीति में उनकी कद्र ही कहाँ ? वे तो बेपेंदी (चूतड़हीन) के लोटे होते हैं !
••••••
क्या गाँधी जी का बड़ा बेटा मुसलमान थे?
यह जरूरी नहीं है कि ‘मस्ज़िद’ में ही ‘नमाज’ पढ़ी जाय!
[श्रोत : मा. सुप्रीम कोर्ट के न्यायादेश/27.09.’18]
इनमें कोई दोराय नहीं कि श्री राहुल गाँधी सर्वाधिक धर्मनिरपेक्ष हैं! उनके दादा पारसी थे, किन्तु दादी हिन्दू थी, तो पिता संकरण हुए, माँ ईसाई है, तो अब राहुल महासंकरण हुए ! सत्यश:, यह है महान धर्मनिरपेक्षता !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply