संस्मरण

विजया दशमी

विजया दशमी । साल 2017 के दशहरे का दिन । दुर्गा पूजा का आख़िरी दिन। ‘माँ हमें शक्ति और बुद्धि दोनों प्रदान करो’ की शब्दजाप लिए श्रद्धालु आशीष माँगते रहे !
इस दिन हम प्रतीक रूप में रावण, कुम्भकर्ण, मेघनाद जैसे बुराइयों को श्रीराम, श्रीलक्ष्मण, श्रीहनुमान इत्यादि अच्छाइयों के प्रतीकों से ‘होम’ कराते हैं ! बुराइयों का अंत हो, हमारा ध्येय भी तो यही है ।
कोई धर्म भी ट्रैफिक नियमों की भाँति है, जिसतरह से भारत में हम सड़क की बाँयी ओर चलते हैं, ताकि वाहन आदि के दुर्घटना से बचा जा सके ! उसी भाँति धर्म हमें संस्कृति को धारण करने की सीख देता है ।
सूर्य का धर्म ताप देना, धरती का धर्म हरीतिमा प्रदान करना है…. हमारा धर्म भी राष्ट्र को बचाते हुए अपने नागरिकों को बचाना है…..

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply