संस्मरण

आरटीआई में उपलब्धियाँ

भारत में सूचना का अधिकार अधिनियम यानी Right to Information Act क्रियान्वित हुए आज 15 साल हुए। तिथि 12 अक्टूबर 2005 को लागू होने से अबतक के इस सफ़रनामे में मैंने भी लाखों पृष्ठ लिए हजारों सूचनाएँ व जानकारियाँ प्राप्त की।

आज की तिथि मेरे भी RTI आवेदनों की संख्या 22,500 हो गई, जिनसे कई से कई हजार प्रतिभागियों को सरकारी नौकरी लगी, तो उतनी ही करप्ट सेवकों की नौकरी गयी भी।

आरटीआई की 15वीं वर्षगाँठ पर समस्त RTI एक्टिविस्टों को शुभकामनाएँ ! भारत में आरटीआई यानी Right to Information Act क्रियान्वित हुए आज 15 साल हुए।

12 अक्टूबर 2005 को लागू होने से अबतक के इस सफ़रनामे में ‘सदानंद पॉल’ ने लाखों पृष्ठ लिए हजारों सूचनाएँ व जानकारियाँ प्राप्त की ! इसके प्रसंगश: कई सम्मान पाए हैं, तो ‘RTI गुरु’ का ख़िताब भी।

मेरे RTI कलम से कई हजार प्रतिभागियों को सरकारी नौकरी लगी है, तो उतनी ही करप्ट सेवकों की नौकरी गयी है। आरटीआई के 15वीं वर्षगाँठ पर समस्त RTI एक्टिविस्ट को कार्यान्वयन दिवस के उपलक्ष्य में शुभमंगलकामनाएँ….

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply