पुस्तक समीक्षा

जाने कितनी दफा ?

जाने कितनी दफा ही द्वार खुले होंगे, शायद हरिवंश राय बच्चन जी ने कहा–

“याद मुझे है वह दिन पहले,
जिसदिन तुझको प्यार किया;
तेरा स्वागत करने को जब
खोल हृदय का द्वार दिया !”

….तो यह भी कहा–

“मन-मन्दिर में तुझे बिठाकर
तेरा जब सत्कार किया;
झुक-झुक तेरे चरणों को जब
चुम्बन बारम्बार किया !”

….तो यह भी–

“पर जब उनकी वह प्रतिभा,
नयनों से देखी जाकर;
तब छिपा लिया अंचल में,
उपहार हार सकुचाकर !”

तो फिर के लेखनबद्ध यह–

“घर से यह सोच उठी,
उपहार उन्हें मैं दूंगी;
करके प्रसन्न मन उनका,
इनकी शुभाशीष लूँगी !”

सीत जी ने यह प्रसंगश: उड़ेली है कि दो जिम्मेदार लोग आपस में प्यार नहीं करते हैं, अपितु सिर्फ़ जिम्मेदारी निभाते हैं ! अंत में मेरी राय है कि संकीर्ण, अतार्किक और अवैज्ञानिक लोगों से मित्रता मत कीजिये, वे कमीने होते हैं और आपको पटकने के मौके तलाशते हैं !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply