बाल कविता

दीपक

प्रभु ने हमको प्रेम से सौंपा,दीपक को इस दिशा में जलने से घर में आएगी सुख और समृद्धि -  remedies-to-astrological-problems
तमहारी-सुखदाई उजास,
जब तक दम-में-दम है अपने,
देंगे हम स्नेहिल प्रकाश.
दीपक-तले अंधेरा होता,
घेरे पर रोशन होते,
खुद जलकर औरों को रोशन,
करके हम खुश हैं होते.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।

Leave a Reply