कविता

पिछड़ों, शोषितों, वंचितों के मसीहा

पिछड़ों, शोषितों, वंचितों के मसीहा

स्व. कर्पूरी ठाकुर के

जन्मदिवस पर नमन

कवयित्री

स्वर्णलता ‘विश्वफूल’ की

कवितारूपेण श्रद्धांजलि से

उत्तम और कोई नमनीय शब्द

या शब्दकोश नहीं हो सकते !

पढ़िए, वो कविता,

जो ‘मंडल विचार’ पत्रिका में

और कालांतर में

कवयित्री की कविता पुस्तक

‘ये उदास चेहरे’ में

यह संकलित भी हुई,

जिसे होते हुए

‘बिहार राष्ट्रभाषा परिषद’ ने

सम्मानित भी किया था….

जननायक कर्पूरी ठाकुर सर

बिहार के दो-दो बार

मुख्यमंत्री भी रहे थे….

जन्मदिवस पर

पुनश्च सादर नमन

और श्रद्धांजलि….

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply