संस्मरण

अपना कृष्णा

मेरी अपनी मौसी देवकी का बड़ा  पुत्र कृष्णा जन्मजात मेधावी रहे हैं, उनका बाल्यावस्था मेरी माँ यशोदा के सान्निध्य में भी बीता है । भगवान कृष्ण के बाल्यावस्था कष्ट इस कृष्ण के जवानी-कष्ट से जुड़ा हुआ है।

आर्थिक अभावों में पलना , वो भी अगर पड़ौस में धनियों के चास हों — कृष्णा भी मैं या मेरा परिवार धनी क्यों नहीं हैं, मैं और मेरा परिवार ही कष्ट में क्यों हैं ? क्यों हमारे पड़ौसी रोज-रोज मीट-भात व दूध- भात ही खाते हैं , क्यों मैं और मेरे परिवार के सदस्यों को सूखी रोटी भी मयस्सर नहीं है ?????

मैट्रिक इन्हीं सपनों में अच्छा श्रेणी से पास किये , ऊँचें सपने को लिए, अपनी दरिद्रता को दूर करने के प्रति कटिबद्धता लिए  तथा अपने अंदर पनप रहे इन प्रश्नों के निदानार्थ इंटर में साइंस रखा तथा पिता के माटी – पेशा में सहयोग भी करते रहा । रात-दिन दोनों तरह की मेहनत और आरंभिक प्रतियोगिता परीक्षाओं में ‘अनुतीर्णता’ से कृष्ण का मस्तिष्क अस्थिर हो गया।

घर में तोड़-फोड़ करने लगा, वशिष्ठ नारायण सिंह की भाँति आपस में बुदबुदाने लगे । लोगों ने कहा- वह पागल हो गया है । दो दर्जन डॉक्टरों के यहाँ इलाज़ करवाया गया, लाखों खर्च हुए। पर अभी भी उनकी हालत 10 वर्षों से जस की तस है।

मौसी देवकी को अपने कृष्णा पर अभी भी कोई चमत्कार होने की आशा है, किन्तु क्या उस कृष्ण की ‘गीता’ में इस कृष्णा के सपनों को परिणाम तक पहुंचाने का कोई श्लोक है, तो बताना भैया । अपने कृष्णा को देखकर श्री कृष्ण जन्म अष्टमी फ़ीका लगता है।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply