गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

हर राम का जटिल जीवन पथ होगा जब पिता भार्या भक्त दशरथ होगा करके ज़ुल्म करता है वो इबादत कहो फिर कैसे पूर्ण मनोरथ होगा नींद आयेगी तुझे भी सुकून भरी जब तू भी पसीने से लथपथ होगा कृष्ण का भी रथ बढ़ रहा नहीं आगे सुदामा के रक्त से सना राजपथ होगा आज भी […]

गीत/नवगीत

है मुझे स्मरण… जाने जाना जानेमन !

है मुझे स्मरण… जाने जाना जानेमन ! वो पल वो क्षण हमारे नयनों का मिलन जब था मूक मेरा जीवन तब हुआ था तेरा आगमन कलियों में हुआ प्रस्फुटन भंवरों ने किया गुंजन है मुझे स्मरण… जाने जाना जानेमन ! तेरा रूप तेरा यौवन जैसे खिला हुआ चमन चांद सा रौशन आनन चांदनी में नहाया […]

कविता

प्रेम दिवस

चक्षुओं में मदिरा सी मदहोशी मुख पर कुसुम सी कोमलता तरूणाई जैसे उफनती तरंगिणी उर में मिलन की व्याकुलता जवां जिस्म की भीनी खुशबू कमरे का एकांत वातावरण प्रेम-पुलक होने लगा अंगों में जब हुआ परस्पर प्रेमालिंगन डूब गया तन प्रेम-पयोधि में तीव्र हो उठा हृदय स्पंदन अंकित है स्मृति पटल पर प्रेम दिवस पर […]

राजनीति

छात्र और राजनीति

राष्ट्र के रचनात्मक प्रयासों में किसी भी देश के छात्रों का अत्यन्त महत्वपूर्ण योगदान होता है. समाज के एक प्रमुख अंग और एक वर्ग के रूप में वे राष्ट्र की अनिवार्य शक्ति और आवश्यकता हैं. छात्र अपने राष्ट्र के कर्णधार हैं, उसकी आशाओं के सुमन हैं, उसकी आकांक्षाओं के आकाशदीप हैं. राष्ट्र के वर्तमान को […]

कविता

मैं सत्य बोलना चाहता हूँ

मैं सत्य बोलना चाहता हूं कुछ अपने बारे में कुछ दूसरों के विषय में लेकिन जब कभी भी मैंने सत्य बोला है हो गया है मुझसे लोगों का विकर्षण कभी-कभी तो रिश्ते-नाते भी टूटने के कगार पर पहुंच गये हैं इस सत्य के कारण सत्य बोलने वालों के खिलाफ जारी होते हैं फतवे किया जाता […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल-२

तन्हाई किसी की मुस्तकबिल न हो खुशियां इतनी भी मुश्किल न हो और पाने की आशा हो अंतिम लक्ष्य हासिल न हो प्यार तो सच्चा हो लेकिन उसकी मंजिल न हो प्रेम में डूबा हो स्नेह-सरिता का साहिल न हो मन में समर्पण हो महबूबा संगदिल न हो ज्ञान का भंडार हो पर मानव जाहिल […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल -१

शेरनी भी पीछे हट गयी बछड़े की मां जब डट गयी हमारी कलम वो खरीद न सके लेकिन स्याही उनसे पट गयी हमारे मुंह खोलने से पहले दांतों से जीभ ही कट गयी सच बोलने लगा है अब वो समझो उमर उसकी घट गयी गौर से देखो मेरे माथे को बदनसीबी कैसे सट गयी कमीज […]