पुस्तक समीक्षा

समीक्षा-कहानियां सुनाती दादाजी की चौपाल

समीक्षा-कहानियां सुनाती दादाजी की चौपाल   पुस्तक: दादाजी की चौपाल (कहानी संग्रह) रचनाकार: ललित शौर्य संस्करण: 2019 मूल्य: 160 रुपए प्रकाशक: उत्कर्ष प्रकाशन, 142, शाक्यपुरी, कंकरखेड़ा मेरठ (उप्र) मोबाइल नंबर 7351467702 समीक्षक-ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’ 9424079675   कहानियां सभी को अच्छी लगती है। दादी सुनाती है तो ओर भी लुभाती है । बोर हुई तो बच्चों को सुलाती है । मगर, कहानियाँ भाती और […]

समाचार

ओमप्रकाश क्षत्रिय शब्द—निष्ठा सम्मान हेतु चयनित

 रोचक विज्ञान बालकहानियों के संग्रह पर मिलेगा सम्मान    रतनगढ़ ! आचार्य रत्नलाल विज्ञानुग की स्मृति में शब्दनिष्ठा सम्मान देशभर की प्रसिद्ध साहित्यिक प्रतिभा और उन की कृति के आधार पर चयनित रचनाकारों को पुरस्कार प्रदान किया जाता है. यह पुरस्कार दो वर्ग में विभाजित किया जाता है. एक वर्ग में पुस्तक की श्रेष्ठता के […]

बालोपयोगी लेख

पेड़ की आत्मकथा

मैं एक पेड़ हूं. मगर, आत्मनिर्भर पेड़ हूं. अपना भोजन स्वयं बनाता हूं. क्या आप जानना चाहते हो कि यह कार्य मैं किस तरह करता हूं ? हां. तो चलिए, मैं बताता हूं. मैं किस तरह काम करता हूं. मेरे अंदर एक भोजन बनाने का कारखाना है. इस कारखाने का नाम हरितलवक है. यह कारखाना […]

पुस्तक समीक्षा

 पुस्तक समीक्षा- विज्ञान की सरल और सहज कहानियों की पुस्तक

पुस्तक -रोचक विज्ञान बाल कहानियां लेखक- ओम प्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’ पृष्ठ-६०  मूल्य-१००  पेपर बैक प्रकाशक – रवीना प्रकाशन गंगा नगर दिल्ली ९४ मस्तिष्क की ग्रह्यता का सरल व सामान्य सिद्धांत है.  कहकर बताई गई   या पढ़ा कर समझाई गई बात की अपेक्षा यदि उसे करके दिखाया जावे या चित्र से समझाया जावे तो वह अधिक सरलता से बेहतर रूप […]

कविता

कविता – नए साल ! तुम जल्दी आना

नए साल! तुम जल्दी आना ।संग में अपने खुशियां लाना ।। छोड़ दिए हैं काम अधूरे उसको पूरे करके जाना ।स्वप्न सलौने अपने हैंरंगों से है उसे सजाना।। देख रहा हूं मैं तुम को चुस्ती-स्फूर्ति लेकर आना।नए साल! तुम जल्दी आना ।संग में अपने खुशियां लाना ।। मैं पौधा भी खुब लगाऊंगा पानी भी खुब पिलाऊँगा ।पढ़कर अच्छी-अच्छी […]

पुस्तक समीक्षा

बाल साहित्य का उम्दा सैद्धांतिक विवेचन

समीक्षा—  पुस्तक: हिन्दी बालसाहित्य का सैद्धांतिक विवेचन लेखक: डॉ. परशुराम शुक्ल समीक्षक: ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’  ९४२४०७९६७५ पृष्ठ: 240 मूल्य: 95 रुपए प्रकाशक: आराधना ब्रदर्स, 124/152—सी, ब्लाक गोविंदनगर कानपुर. 208006 उप्र भारत में बालसाहित्य की समृद्ध परंपरा रही है. दादीनानी ने इसे वाचिक रुप से हमेशा आगे बढ़ाया है. श्रुति रूप में हमारे देश में बालसाहित्य का समृद्ध भंडार पड़ा है. इस […]

लघुकथा

लघुकथा- उम्मीद

हाथ पर चढ़े प्लास्टर को देख कर पिता ने कहा, ” यह पांचवी बार है. तू इतना क्यों सहन करती है. चल मेरे साथ, अभी थाने में रिपोर्ट कर देते हैं. उस की अक्ल ठिकाने आ जाएगी.” ” नहीं पापाजी !” ” तू डरती क्यों है बेटी ? हम है ना तेरे साथ .” ” […]

लघुकथा

लघुकथा- शार्टकट

छात्रों को तन्मयता से पढ़ाते हुए दिनेश को मालूम ही नहीं पड़ा कि उसके वरिष्ठ शिक्षक दीनदयाल जी कब आ गए .चौंककर उसने कहा, “आइए गुरुजी. बैठिए. कोर्स बहुत ज्यादा है इसलिए जल्दी-जल्दी पढ़ाना पड़ता है ध्यान लगाकर.” “कोई बात नहीं, पढ़ाइए.” उन्होंने कहा और बच्चों को बैठने का इशारा करते हुए पुनः दिनेश से […]

लघुकथा

लघुकथा- उपलब्धि

नौकर के सहारे घर के अंदर आते सेठजी को देख कर चंद्रमोहन के सिरहाने बैठी पत्नी खड़ी हो गई. बिस्तर पर सीधा बैठने की कोशिश करते हए चंद्रमोहन ने कहा, ‘ अरे रोहन ! आओ. बैठो.’ और पास पड़े हुए स्टूल की ओर इशारा किया. जिस पर बैठा हुआ उन का पौता उठ खड़ा हुआ, […]

पुस्तक समीक्षा

आर्थिक—सामाजिक विसंगतियों पर शब्दों रूपी बाणों की वर्षा करती प्यारी कविताओं का गुलदस्ता

पुस्तक समीक्षा— ————————————————————————————————————————————— पुस्तक- खोजना होगा अमृत कलश कविता—संग्रह कवि— राजकुमार जैन राजन समीक्षक- ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’ अयन प्रकाशन, 1/20, महरौली , नई दिल्ली.110030 पृष्ठ—120, मूल्य— 240 रूपए कविता कवि के अंतर्मन के अंतद्वंद्व से उपजी शब्दों की वह विथिका है जो कागज पर उभरे भावों की वजह से सब को अपनी ओर आकर्षित करने […]