कहानी

अधूरा इश्क

आज फेसबुक पर एक रिक्वेस्ट आई नाम देखकर पहले तो मैं चौक गया, नाम और चेहरा कुछ पहचान पहचाना सा लग रहा था, प्रोफाइल को मैंने खोलने की कोशिश की तो उसमें सिक्योरिटी लॉक लगा था, एक छोटी सी तस्वीर नजर आ रही थी प्रोफाइल में, दो दिन तक मैं उस तस्वीर को याद करने […]

कहानी

रिश्तो का पतझड़

समय की भी क्या विडंबना है जहां बचपन हम भाई बहनों की लड़ाई झगड़ा करते है और फिर प्रेम के साथ मिलते है… वही भाई-बहन बड़े होकर अलग हो जाते हैं। वह बचपन का प्रेम कहां खो जाता है पता ही नहीं चलता.। एक दूसरे की चीजों को हड़पना ही समझ में आता है। अब […]

कहानी

ऑनलाइन अट्रैक्शन

नवरात्र का समय था और दीक्षा अपने काम में ऐसे व्यस्त थी जैसे लग रहा हो मानो  आज माता रानी उसके ही घर आने आने वाली है …।   एयर फोन कान में  लगाएं  वह गाना सुनते सुनते काम में व्यस्त थी,..तभी उसके ससुर उसे आवाज देते हैं..।दीक्षा,दीक्षा कहां हो…, दीक्षा को ऐसा लगता है, मानो […]

कहानी

रैगिंग से हमसफर तक

कॉलेज का पहला दिन था… कॉलेज के गेट पर पहुंचते ही दिल अन्दर से धक-धक कर रहा था, मानो दिल बाहर ही आ जाएगा, यूनिवर्सिटी मे चारों तरफ लड़के अपनी गाड़ियों से आ …जा रहे थे। धीरे-धीरे कालेज के अन्दर की तरफ हम लोगों ने कदम बढाया, तभी एक लड़के को देखकर अनामिका ने धीरे […]

कहानी

पश्चाताप के आंसू

सारिका का बचपन एक संयुक्त परिवार में बीता था । सारिका एक सरकारी स्कुल में अध्यापिका थी, उसने अपने बच्चे को बहुत ही प्यार से पाला, आज वह बड़ा हो गया था, अब वह बोलता था कि आपने मेरे लिए किया ही क्या है…. अपने बच्चे राहुल के यह वाक्य सारिका को झकझोर रहे थे […]

कहानी

आरक्षण

अमित कॉलेज से निकला ही था अब एक नई डगर और एक नई मंजिल उसका इंतजार कर रही थीं उसे पता था कि अब वह पास तो हो चुका है पर आगे की मंजिल बहुत कठिन है, उसने अपने मां-बाप से कहकर कोटा में एडमिशन ले लिया। अमित के साथ दो तीन लड़के और थे.।सभी […]

कहानी

लापरवाही

शाम का समय था मैंने अपने पति से कहा कि चलऐ ना, मेरी फ्रेंड शिवांगी के यहां चलते हैं, अक्सर कभी वो नहीं रहती कभी हम नहीं जा पाते। कुछ दिनों से मैं इनको अपनी फ्रेंड के यहां चलने को कह रही थीं। हम सबकी तबीयत बहुत ठीक ना रहने कि वजह से। नहीं जा […]

कहानी

बेबसी

       अभी हम लोगों ने होश हीं संभाला था। शाम होते ही गली में हम सब बच्चे खेलने निकल जाते थे । हम सब बच्चे गली में बैट बॉल खेलते , हमारी बॉल हमेशा शर्मा अंकल के घर में चली जाती, हम सब एक साथ चिल्लाने लगते, अंकल हमारी बॉल दे दीजिये। वह […]