Category : शिशुगीत

  • शिशुगीत – १४

    शिशुगीत – १४

    1. होली मम्मी जल्दी से दो खाना है बाजार हमें तो जाना पिचकारी जो लानी है होली आने वाली है 2. गुब्बारे होलीवाली मस्ती में नहीं बचोगे सस्ती में रंग भरे गुब्बारे हैं देखो कितने सारे...

  • शिशुगीत – १३

    शिशुगीत – १३

    १. बसंत मौसम बसंत का ये प्यारा स्वेटर-मफलर से छुटकारा न ही सर्दी, न ही गर्मी खेल-कूद का समय हमारा २. परीक्षा दीदी-भैया जागो-जागो खड़ी परीक्षा, आलस त्यागो फर्स्ट क्लास में आना होगा हमको गर्व कराना...

  • शिशुगीत – 12

    शिशुगीत – 12

    1. स्वेटर सर्दी आयी, पहनो स्वेटर रहे नहीं फिर कुहरे का डर नीले-पीले, काले-लाल जैसे भी हों, करें कमाल 2. रजाई ओढ़ रजाई ठंढ भगाओ मीठे सपनों में खो जाओ नहीं निकालो इससे हाथ गर्माहट का...

  • शिशुगीत – ११

    शिशुगीत – ११

    १. नया साल नया साल आनेवाला पिकनिक हमको जाना है मम्मी-पापा से बोला करना नहीं बहाना है चिड़ियाघर को जाएँगे खूब धमाल मचाएँगे २. प्रॉमिस पापा प्रॉमिस पूरा करिए फर्स्ट क्लास में आया हूँ और सभी...

  • शिशुगीत – १०

    शिशुगीत – १०

    (1) चावल-दाल टेस्टी-टेस्टी चावल-दाल संग रायता करे कमाल खा जाता मैं पूरा प्लेट हँसता भरकर मेरा पेट (2) रोटी-सब्जी रोटी-सब्जी अच्छी लगती मम्मी रोज बनाती है मैं तो एक न खा पाता दीदी दो-दो खाती है (3) पूरी-सब्जी...

  • शिशुगीत – ९

    शिशुगीत – ९

    १. अखबार सुबह-सुबह आता अखबार सबके मन भाता अखबार दुनियाभर की खबर बताता दिल भी बहलाता अखबार २. डोरबेल जैसे ही कोई आए इसका स्विच दबाता है टिंग-टॉंग कर ये हमको दरवाजे तक लाता है ३....

  • शिशुगीत – ८

    शिशुगीत – ८

    1. नाना नाना आते लिए मिठाई देते हमको चॉकलेट लेकर जाते संग घुमाने और दिलाते टॉय जेट 2. नानी नानी करती बातें खूब तनिक न होने देती ऊब हमको प्यारे उसके लड्डू जैसे खरगोशों को दूब...

  • शिशुगीत – ७

    शिशुगीत – ७

    १. जूते कील, धूल से हमें बचाते पॉलिश पा चमचम हो जाते काले हों या रंग-बिरंगे जूते काम हमेशा आते २. चप्पल जैसे जूता वैसे चप्पल इसके बिन मत फिरना इक पल कॉकरोच पर पैर पड़ा...

  • शिशुगीत – 6

    शिशुगीत – 6

    1. रबर गलत लिखे को तुरंत मिटा दे कॉपी मेरी रखता साफ गुस्सा होने से ही पहले टीचर कर देते हैं माफ 2. दूध मम्मी बोले दूध पियो लेकिन मुझे नहीं भाता इधर-उधर जाकर घर में...

  • चिड़िया

    चिड़िया

      फुर्र-फुर्र करती आई चिड़िया दाना चुगकर लाई चिड़िया सबको प्यारी लगती चिड़िया पंछियों में न्यारी लगती चिड़िया तिनके चुन कर लाती चिड़िया सुन्दर घर बनाती चिड़िया हाथ लगाओ डर जाती चिड़िया उड़ अपने घर जाती...