Category : शिशुगीत

  • शिशुगीत – 2

    शिशुगीत – 2

    १. गेंद रंग-बिरंगी आती है मेरा मन बहलाती है बल्ले, हॉकी, रैकेट से ढेरों खेल खिलाती है   २. पंखा फर-फर, फर-फर चलता है गरमी दूर भगाता है निंदियारानी को लाकर सारी रात सुलाता है  ...

  • शिशुगीत – 1

    शिशुगीत – 1

    १. बंदर नटखट होता है बंदर उछले-कूदे इधर-उधर धूम मचा दे रस्ते में हँसी दिला दे सस्ते में खाता है रोटी, केले गुलदाने, गुड़ के ढेले २. भालू भालू मोटा, ताकतवर देख इसे लगता है डर...