2 thoughts on “क्षणिका : ज़िन्दगी

  1. कुछ लफ़्ज़ों में बहुत कुछ कह दिया, अच्छा लगा.

Leave a Reply