आम आदमी

रोज टूटता हूं, बिखरता हूं
हर पल जीता हूं, मरता हूं
बे इन्तिहा बेडियां है, पैरो में
फिर भी, हर दर्द सहकर चलता हूं
आम आदमी हूं,
सरकारी व्यवस्था की आग में
हर रोज जलता हूं।

निकलता हूं हर रोज घर
कुछ अच्छे की आस में
बच्चों की रोटी
और कुछ खुशियों की तलाश में
देखता हूं
बडे बडे होर्डिंग्स जन योजनाओं के
जो लगें हैं गलियों में,चौराहों पर
करते हुऐ बखान
सरकार की उपल्ब्धियों का।
और मन ही मन सोचता हूं कि
यदि सब कुछ होता है, मेरे लिये
तो मेरे ये हालात क्यूं है
धुंधले सवेरे
और दर्द भरी रात क्यूं है
हर दर पे मेरा त्रिस्कार क्यूं है
मेरे साथ
सौतेलों सा व्यवहार क्यूं है
आम ही ने खास बनाया है आपको
फिर आपके ही दर पर
आम का अपमान क्यूं है।

सपनों से मन तो बहलता
पर जिन्दगी नहीं चलती
पेट की आग रोटी से बुझती है
भूखे पेट श्रृद्धा नही पलती
ये जुमलें ये बातें, बस बातें भर हैं सरकार
इन जुमलों से आम आदमी की
तकदीर नहीं बदलती॥
हमें छलतें है, तुम्हारे वादे भी
केवल किस्मत ही नही छलती॥

सतीश बंसल

परिचय - सतीश बंसल

पिता का नाम : श्री श्री निवास बंसल जन्म स्थान : ग्राम- घिटौरा, जिला - बागपत (उत्तर प्रदेश) वर्तमान निवास : पंडितवाडी, देहरादून फोन : 09368463261 जन्म तिथि : 02-09-1968 शैक्षिक योग्यता : High school 1984 Allahabad Board(UP) : Intermediate 1987 Allahabad Board(UP) : B.A 1990 CCS University Meerut (UP) वर्तमान ने एक कम्पनी मे मैनेजर। लेखन : हिन्दी कविता एवं गीत विषय : सभी सामाजिक, राजनैतिक, सामयिक, बेटी बचाव, गौ हत्या, प्रकृति, पारिवारिक रिश्ते , आध्यात्मिक, देश भक्ति, वीर रस एवं प्रेम गीत