समाचार

बांगला देश में तीन ब्लागरों पर हमला, प्रकाशक की हत्या

बांग्लादेश के दिवंगत लेखक और ब्लागर अविजित राय के साथ काम करनेवाले एक प्रकाशक की अज्ञात हमलावरों ने शनिवार को गला काटकर हत्या कर दी। वहीं इसके कुछ घंटे पहले ही दो सेक्यूलर ब्लागरों और राय के एक अन्य प्रकाशक पर हमला हुआ। ढाका के मध्य शाहबाग इलाके में फ़ैजल आर्फ़ीन दीपान(४३) पर तीसरी मंजिल […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

बस तुम्हारा नाम ले हद से गुज़र जायेंगे हम. इश्क के किस्से सुनायेंगे जिधर जायेंगे हम. प्यार की टेढ़ी सडक पर कौन सीधे चल सका, मुश्किलें होंगी मगर उस राह पर जायेंगे हम. इस जहाँ में बस तुम्हीं से हाँ तुम्हीं से इश्क है, तुमको पाने के लिये क्यों दर-ब-दर जायेंगे हम. जब तुम्हारे हाथ […]

क्षणिका

क्षणिकाएँ

(1) प्रीत की रीत मन बदरंग, जुबां काली दिल में पाप, कर्मों में छल कौन अपना, कौन पराया पीठ पीछे वार, सामने दुलार आँखों में धोखा, दिखावे की परत अपनों से बेगानापन, आत्मीयता का अभाव इस दुनिया के रंग से दुखता दिल देख देख सिसकती आत्मा जीते जी न निभाई कभी प्रीत की रीत और […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल !

वफा के मंजर यूँ बदले कि वो तस्वीर ए जाना हो गए बेखुदी में यूँ रफ्ता रफ्ता हम खुद ही निशाना हो गए ।। मासूम से दिल ने मेरे सजदा किया कुछ इस तरह चाक दामन कर दिया खुद से बेगाना हो गए ।। बेबफा ने बफा का सौदा किया कुछ इस तरह अश्क मोती […]

गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

हसरत-ए-दिल-ए-बेकरार कहां तक जाती दश्त-ए-तनहाई के उस पार कहां तक जाती मैं ज़मीं पर था तुम कोहसार-ए-गुरूरां पर थे गरीब की ख्वाहिश-ए-दीदार कहां तक जाती मैं तो आया था तुमने हाथ बढ़ाया ही नहीं इकतरफा दोस्ती सरकार कहां तक जाती ज़रूरत के बोझ तले दब के दम तोड़ दिया थी अपनी ज़िंदगी लाचार कहां तक […]