Monthly Archives: October 2017

  • क्षणिका : दुशासन

    क्षणिका : दुशासन

    देवी चरणों में, शीश झुकाएँ, करें माँ का श्रंगार, न जाने ऐसे कितने सफेदपोश, मन से अब भी हैं दुशासन, लिए अंतस् में कुत्सित विचार !! अंजु गुप्ता

  • त्रासदी है….

    त्रासदी है….

    त्रासदी है…. क्या छोटा शहर, क्या महानगर… विकृत मानसिकता के व्यक्ति हर जगह पाए जाते हैं । समझ नहीं आता कि स्कूल जाने वाले अबोध बच्चों को पढ़ाई के बारे में समझाएँ या जीवन में आने...

  • दशानन

    दशानन

    महाज्ञानी, धर्मकर्म का ज्ञाता, … था दशानन ! आज फिर,,, दशहरे में सजा उसका पुतला देख रहा था *अनेकाननों* को जो छुपा अपनी ओछी मानसिकता, राग – द्वेष, मद -लोभ और तृष्णा ! बन न्यायधीश, गर्वित...



  • अथ श्री भागवत कथा

    अथ श्री भागवत कथा

    विजय दशमी के दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने मोदी सरकार की जमकर तारीफ तो की लेकिन राष्ट्रवादी नीतियों पर. संघ प्रमुख ने अपने एक घंटे से ज्यादा की स्पीच में जहां मोदी...